Monday, February 21, 2011

शीतलता की आस क्यूँ


तपती हुई दुपहरी मे वर्षा का कयास क्यूँ,
उष्णता ही भाग्य है तो शीतलता की आस क्यूँ,


गेरू-आ पहन भी गर राम और अल्लाह हैं दो,
तो लौट आओ समाज मे ये व्यर्थ का सन्यास क्यूँ,


एक -दूजे को देख-कर, हर एक बस ये सोचता है
सभी हैं मगन खुशी मे और में निराश क्यूँ,


मेरा घर रोशनी से हो भले सराबोर मगर,
बगलवाले झोंपडे मे दिए का प्रकाश क्यूँ,


हुए जमाने साथ मे मिल-बैठ के बतियाए हुए
अपनो के लिए कहो अपनत्व का ही नाश क्यूँ,


होते हुए को भूलना आसान है मुश्किल नही,
जो याद आते हैं सदा, होते नही वो पास क्यूँ


सेवा तो तुम कर ना सके, अब चुप तो रहो कपूत मेरे
वृद्धा-वस्था की अवधि का हास क्यूँ परिहास क्यूँ

2 comments:

  1. उत्तम प्रस्तुति...

    हिन्दी ब्लाग जगत में आपका स्वागत है, कामना है कि आप इस क्षेत्र में सर्वोच्च बुलन्दियों तक पहुंचें । आप हिन्दी के दूसरे ब्लाग्स भी देखें और अच्छा लगने पर उन्हें फालो भी करें । आप जितने अधिक ब्लाग्स को फालो करेंगे आपके अपने ब्लाग्स पर भी फालोअर्स की संख्या बढती जा सकेगी । प्राथमिक तौर पर मैं आपको मेरे ब्लाग 'नजरिया' की लिंक नीचे दे रहा हूँ आप इसके आलेख "नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव" का अवलोकन करें और इसे फालो भी करें । आपको निश्चित रुप से अच्छे परिणाम मिलेंगे । शुभकामनाओं सहित...
    http://najariya.blogspot.com/2011/02/blog-post_18.html

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छा लिखा आपने...बधाई.
    _______________________
    'पाखी की दुनिया' में 'चल मेरे हाथी'

    ReplyDelete